meriabhivyaktiya

Just another Jagranjunction Blogs weblog

63 Posts

69 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 24183 postid : 1202127

मेरी स्कूटर

Posted On: 10 Jul, 2016 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

एक स्कूटर सी है जिन्दगी मेरी।सारा दिन सड़कों पर दौड़ती ,,,शाम को गैराज मे सुस्ताती ,,और अगली सुबह 3-4 ‘किक’ के साथ स्टार्ट लेती हुई फर्राटे से सड़के नापती हुई चल पड़ती है।
बड़ी नीरस सी प्रतीत हो रही है ना आपको लेख की शुरूवात?????सोचते होंगें,क्या सब लिखने लगी मै,,,स्कूटर,,सड़क,गैराज,, हा,हा,हा,हा,,,,,। मेरी रोज़मर्रा की ज़िन्दगी है,,,,कुछ बड़े लक्ष्यों की प्राप्ति हेतु अग्रसर सोच है, एक तपस्या है, भाग- दौड़,,,और एक लंबा समयान्तराल है,,। इन सभी दैनिक आपाधापी से गुज़रते हुए, प्रतिदिन कुछ नूतन अनुभव होते हैं। वही एक जैसे रास्ते,वही चित-परिचित गन्तव्य,वही समयसारिणी,,,परन्तु नित नए अनुभव ।
सड़कों के ‘ट्रैफिक-जाम’ से कुशलतापूर्वक निकलती हुई मेरी स्कूटर कभी स्वयं के ‘चालन-कौशल’ पर इठलाती है,,तो कभी समय,गति और सही निर्णय ना ले पाने के अभाव मे हुई त्रुटि पर मुँह छिपाती है। उन्ही जाने-पहचाने उबड़-खाबड़ रास्तों पर कभी सहजता से आहिस्ता से निकल जाती है, तो कभी उन्ही पर ज़ोर से उछलती हुई अनियन्त्रित हो जाती है।
सड़के कभी खाली मिल जाए हुजूर तो फिर क्या कहने!!!!!! ,,,मक्खन सी फिसलती है,,,,पहियों और ब्रेक का तालमेल एकदम दुरूस्त,,,रफ्तार के साथ गुनगुनाती है,,,”जिन्दगी एक सफर है सुहाना,,यहाँ कल क्या हो ,किसने जाना”,,,, मै और मेरी स्कूटर दुनिया से बेगानी ,एकदम मस्तानी चाल मे दनदनाती हुई,,,,बस पंख ही नही लगते,,,वरना नौबत उड़ने तक की आ जाती है,,,।
एक बड़ी रोचक और मज़ेदार घटना अक्सर होती है-जब सामने या बगल से गुज़रने वाला वाहनचालक ‘गलत टर्न’ या ‘ओवरटेक’ लेने की कोशिश करता है, उस स्थिति मे उसकी अभद्रता और ‘ट्रैफिक-नियमो’ की उलाहना पर तेज़-तर्रार दृष्टि से कुठाराघात करते हुए बड़ी आत्मसंतुष्टि मिलती है,,,यदि किसी दिन मै ऐसी किसी उलाहनापूर्ण स्थिति का परिचय देती हूँ, तो परिस्थिति से ऐसे ‘कन्नी काटती’ हुए निकल जाती हूँ, मानो कुछ हुआ ही नही,,चेहरे पर यह भाव दिखाना-” ठीक है यार हो जाता है,,!”



Tags:     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Jitendra Mathur के द्वारा
July 11, 2016

आपके डायरीनुमा दार्शनिक लेख ने मुझे भावुक कर दिया है । मुझे भी अपने पुराने बजाज सुपर स्कूटर से अत्यधिक लगाव है और जो भावनाएँ आपकी हैं, लगभग वही मेरी भी हैं । अंतर इतना ही है कि यही यातायात के मध्य स्कूटर चलते समय भूल मुझसे होती है तो मैं दूसरे व्यक्ति से क्षमा-याचना न भी कर सकूं तो भी स्वयं लज्जित अवश्य अनुभव करता हूँ एवं आगे के लिए सावधान हो जाता हूँ । मैंने राजस्थान में रावतभाटा नामक स्थान पर कई वर्ष बिताए एवं वहाँ से पचास किलोमीटर दूर कोटा शहर तक स्कूटर से जाना मेरा प्रिय शगल था । इस पचास किलोमीटर के मार्ग में दरा नाम का वनक्षेत्र भी आता है । जंगल के बीच से ऊंचे-नीचे रास्तों पर स्कूटर चलना और इस तरह एक ही यात्रा में दोनों ओर की दूरी मिलाकर सौ किलोमीटर अपने स्कूटर से तय करने का आनंद ही अद्भुत था जिसे केवल मैं समझता था, दूसरे नहीं । वर्षों बीत गए हैं उन यात्राओं को किए हुए और मेरे उस प्रिय स्थान का साथ छूटे हुए लेकिन आपका लेख पढ़कर लगा मानो कल की सी बात हो । आपने जीवन-यात्रा की तुलना स्कूटर की यात्रा से की है, वह भी मेरे विचारों एवं दृष्टिकोण से साम्य रखती है । इस रोचक तथा सारगर्भित लेख के लिए आपका आभार एवं अभिनंदन ।

lily25 के द्वारा
July 30, 2016

मुझे हार्दिक प्रसन्नता हुई यह जान कर कि मेरे लेख ने आपके कुछ पुराने सुखद क्षणों को पुनः जीवन्त कर दिया। और यतायात नियमों का उल्लंघन वाला प्रकरण मात्र एक हास्य पुट लाने के लिए लिखा,,,मैं सदैव ऐसा नही करती


topic of the week



latest from jagran