meriabhivyaktiya

Just another Jagranjunction Blogs weblog

56 Posts

65 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 24183 postid : 1200300

अन्तर्मन का फुटबाॅल मैच

Posted On: 7 Jul, 2016 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

रोज़मर्रा की भाग दौड़ से जब थोड़ा सुकून पाया तो खुद को एक ‘अन्तरद्वंद’ से घिरा पाया। ऐसा लगा मन के दो पक्षों के बीच फुटबाॅल मैच छिड़ा हो,,,,फुटबाॅल की भाँति द्वंद कई पक्षों के पैरों की ठोकरों को झेलता हुआ इधर-उधर लुढकता पाया,,,कभी हवा मे उछलता हुआ तो कभी निष्कर्ष रूपी ‘गोलकोस्ट’ के काफी करीब,,,कभी सीमा छू कर बाहर की ओर एकदम विपरीत ‘पाले’ मे पहुँचता हुआ पाया।
भावनाओ का परस्पर द्वंद वास्तविक जगत के प्रामाणिक मानदंडों के साथ,,,,कुछ पूर्व अनुभवों के साथ। जिस पल मन की कोमल भावनाएँ एक ज्वारभाटे की तरह उत्तेजित हो जाती हैं,,,,सभी प्रामाणिक मानदंडों और तथ्यों को अपने प्रबल उन्मादी वेग मे पता नही कहाँ बहा ले जाती है। उचित-अनुचित,,, अच्छा-बुरा कुछ समझ नही आता,,ह्दय एक ही गुहार लगाता है,,, सोचो मत बह चलो,,इसी ‘बहाव’ में असीम आनन्द छुपा है।
एक’ श्वेत अंधकार ‘सा ‘अन्तरद्वंद’ ,,,अस्पष्ट सा,,,भय, भ्रम और अनिश्चितता का ‘श्वेत अंधकार’ ,,,,किसी निर्णय पर पहुँच पाना आसान नही,,,फुटबाॅल की तरह इधर-उधर लुडकते रहना।
अन्तरभावों का जब प्रामाणिक तथ्यों के साथ टकराव होता है,,,,तब भावनाएँ वर्तमान क्षण को जी लेने की कहती हैं,,, तो द्वतीय पक्ष कहता है- भावनाओ को महत्व दिया तो भविष्य बिखर जाएगा,,,,तृतीय पक्ष आवाज़ देता है,,,, आजि छोडिए कल किसने देखा,,,?? विषम हालात् किसी एक को चुनने की विवषता,और निष्ठुर काल गति को रोक पाना अस्मभव,,,!!
ये अन्तरद्वंद कभी समाप्त नही होते, प्रतिदिन एक नए विषय के साथ हमारे सम्मुख मुहँ बाए खड़े हो जाते हैं। आने वाला समय हर समस्या का निदान साथ लाता है, परन्तु इस मन का क्या????? फुरसत के दो पल साथ क्या बिताने बैठी,,ये तो मेरे साथ ‘अन्तरद्वंद का फुटबाॅल मैच’ खेलने लगा
मानव-मन की एक बड़ी स्वाभाविक प्रक्रिया,,, थोड़ी देर के इस मैच मे,,उत्तेजना है,,छटपटाहट है,,अनिश्चितता है,,अस्पष्टता है,,उथल-पुथल है,,,,, परन्तु कब एक “परफेक्ट किक” के साथ फुटबाॅल ‘गोलकोस्ट’ मे पहुँच जाती है, और हम खुद को द्वंद से बाहर पाते हैं।
अकस्मात् मन कह उठता है,,,जो होगा देखा जाएगा,,,,,,,परन्तु कुछ पलों का भावनाओं का यह मंथन बहुत से तथ्य सामने लाता है, एक नई सोच को दिशा देता है,,,, तब मानव मन के अन्तरद्वंद एक वरदान प्रतीत होते हैं ।



Tags:     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Jitendra Mathur के द्वारा
July 8, 2016

उत्कृष्ट एवं विचारोत्तेजक आलेख है यह आपका । अन्तर्मन की उथल-पुथल तनाव तो देती है किन्तु आपका यह कथन भी पूर्णरूपेण सत्य है कि वह मस्तिष्क को दिशाज्ञान भी देती है । उचित यही है कि हम अपने मन में प्रस्फुटित होने वाले विभिन्न विचारों को उठने दें तथा उन्हें दृष्टाभाव से स्वीकार करें । वांछनीय यही है कि किसी भी विचार का उसकी भ्रूणावस्था में ही त्याग न करके सभी विचारों को मनोमंथन की प्रक्रिया से प्रभावित होने दिया जाए । संभव है कि सर्वोत्तम निर्णय का नवनीत इसी मंथन से निकले । आपका प्रत्येक आलेख आपकी प्रतिभा के अगाध समुद्र की एक बूंद प्रतीत होता है । बहुत कुछ सीखने को मिल रहा है आपके सृजनों को पढ़कर ।


topic of the week



latest from jagran